सतीश मित्तल- विचार

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाः

166 Posts

25903 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 6153 postid : 25

सुरक्षा कारणों से लोगों का गाँव से शहरों की ओर पलायन

Posted On: 14 Oct, 2011 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आज महानगरों , मेट्रो सिटी में लोग अक्सर जिक्र करते हैं कि आज गाँव के लोग शहरों की तरफ भाग कर यहाँ की भीड़ बढ़ा रहें हें ! इसी लिए इन नगरों की आबादी बढ़ी हे ! व् सीमित साधनों पर दबाव पड़ रहा हे ! शहर शलम में तब्दील हो रहें हें ! क्या शहर का आकर्षण इतना हे कि वह बिना मतलब के शहर की ओर भाग रहा हे ? या फिर इसके पीछे कुछ ओर समस्या हे ! सामाजिक शास्त्र की एक शाखा अर्थशास्त्र के अनुसार ग्रामीण लोग शहरों की ओर मूलभत सुविधाओं के कारण गाँव छोड़ते हैं ! इसके अलावा शिक्षा , चिकित्सा व् रोजगार के कारण भी लोग शहरों की ओर पलायन कर रहे हैं ! परन्तु पंजाब के आतंकवाद अर्थात 1980 के बाद से सुरक्षा कारणों से भी लोगों का गाँव से शहरों की ओर पलायन शुरू हो गया हे !

आज गाँव में रोजगार , घर , सड़क होने के व् वर्षों से वहां रहने के बाद भी लोग लगातार शहरों की ओर पलायन करने को मजबूर हें ! इसका इसका कारण शिक्षा , चिकित्सा , रोजगार , बेसिक सुविधाएँ जेसे सड़क , बिजली , पानी यातायात वहीँ लोगों को गांवों में समुचित सुरक्षा का होना भी हे , वेसे लोगों का शहर , या महानगरों में पलायन करने को लाभ भी हे .!

दिल्ली जेसे शहर में भारत के विभिन्न भागों से आने व् बसने से दिल्ली व् देश को लाभ भी मिलता हे -

1 – देश के बिभिन्न प्रान्तों से दिल्ली में आने से देश को एक बनाने में बड़ी भूमिका हे .

2 – दिल्ली में रोजगार , व्यापार में वृद्धि होती हे !

3 – दिल्ली पुरे देश का दिल की तरह हे . यहाँ आने वाले लोग पुरे देश , गाँव का प्रतिनिधित्व करते हे , अतः देश को अपनी नीति व् बात पहुचाने का मोका मिलता हे ,

4 – विभिन्न प्रदेशों से आये टेलेंट का उपयोग पुरे देश व् समाज को मिलता हे ,

5 राजधानी में जमीन , मकान की अच्छी कीमत मिलती हे ,

6 – लोगों की बचत का देश व् समाज को लाभ मिलता हे ,

7 – देश में एकता , भाई चारे , धार्मिक सदभावना को बढ़ावा मिलता हे .

ओर न जाने कितने सेकड़ों तरह के लाभ होते हें ! यदि गाँव से शहरों की तरफ प्रवाह रुक जाए तो लोगों के रोजगार , इन्वेस्टमेंट , जीवन , देश की एकता , अखंडता पर बुरा प्रभाव पड़ता हे . इसका एक उदाहरण कश्मीर में देखा जा सकता हे . वहां दुसरे प्रान्तों से लोगों के न बसने से वह देश की मुख्य धारा से जहाँ कटा सा मह्सूश

करता हे वहीँ लोगों को अपनी जमीन की सही कीमत भी मुश्किल से मिलती हे ! देश के दुसरे प्रान्तों की टेलेंट का उपयोग न होने के कारण डॉक्टर , इंजीनयर की कमी महसूस की जा सकती हे ! आज अमेरिका . इंग्लेंड इसी लिए आगे हें क़ि उन्होंने बिना देश जाती धर्म में भेद भाव कर संसार के हर हिस्से के टेलेंट का उपयोग कर श्रेष्ट

ता हाशिल की हे !

गाँव से महानगरों में बसने का नुकसान तो जगजाहिर हे . महानगरों के सीमीत संसाधनों पर विपरीत प्रभाव पड़ता हे . साथ ही गाँव से टेलेंट निकल वहां के समाज के विकास पर विपरीत प्रभाव पड़ता हे !

खैर ये सब बातें मुख्य विषय से भटकने की हें . यहाँ मुद्दा इस बात का हे कि आखिर लोग गावों से किन अन्य कारणों से शहर की ओर भागते हे ,

आज मुख्य कारण गांवों में सुरक्षा का न होना एक बड़ा कारण हे . कश्मीर का वहां के पंडितों दुवारा कश्मीर छोड़ना क्या सुरक्षा के मुख्य कारण नहीं हे . आतंकवाद के समय पंजाब से हिन्दुओं का वहां से पलायन करना क्या सुरक्षा का कारण नहीं था . यहाँ तक आज दुनिया के काफी देशों में ये समस्या हे . बंगला देश के निर्माण के समय क्या वो लोग पाकिस्तान छोड़ इण्डिया में पलायन नहीं किये थे ! आज पाकिस्तान में ऐसे हालात हें कि लोग अपना व्यसाय छोड़ देश के विभिन्न भागों में पलायन कर रहें हें !अफगानिस्तान , लीबिया , इजिप्ट सोमालिया जैसे देशों में लोग सुरक्षा के अभाव में इधर उधर पलायन कर रहें हें !

आज देश के शहरों में गाँव से पलायन का अन्य कारणों के अलावा सुरक्षा का अभाव भी मुख्य कारण हे !

मेरा खुद का एक व्यक्तिगत अनुभव हे जब सुरक्षा कारणों से गाँव का हरा भरा वातावरण , व् सेकड़ों वर्षों का पुश्तेनी मकान छोड़ शहर के छोटे से मकान में शिफ्ट होना पड़ा ! उजड़े पड़े मकान को देख आज भी टीस सी उठती है !

शहरों की भीड़ को यदि कम करना है तो वहां सुरक्षा का वातावरण बनाना होगा ! वरना शहरों की भीड़ के लिए , उन्हें शलम बनाने के लिए हम स्वयं जिम्मेदार होंगें .

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran